शनिवार (१२ जनवरी) को शहर स्थित जेनिथ क्रैस स्कूल के प्रार्थना सभा मे स्वामी विवेकानंद जयंती का धूमधाम से आयोजन किया गया l कार्यक्रम की शुरुवात प्रधानाध्यापक रिंकी सिंह ने उनके चित्र पर सबसे पहले पुष्प अर्पित कर के की इस अवसर पर वरिय शिक्षका डॉली सिंह ने उनके जिवन परिचय को बताया और निदेशक विकाश सिंह ने कहा की स्वामी विवेकानंद भारत के महान दार्शनिक थे, जो जिन्होंने पूरी दुनिया को हिन्दुत्व और आध्यात्म का परचम लहराया। उनका मानना था कि युवा किसी भी देश की वो शक्ति है, जो देश को विकसित और दुनिया की ताकत बनाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन के अवसर पर भारत में 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। साथ ही स्वामी विवेकानंद को 1893 में शिकागो में हुई विश्व धर्म सम्मेलन में भारत को विश्वपटल पर एक नई पहचान दिलाई। उनके ओजपूर्ण विचार और महान शख्सियत किसी भी वर्ग और धर्म के लोगों को प्रेरणा प्रदान करती है। इस अवसर पर रश्मी सिंह, नेहा सिंह ,आरती कुमारी,और आलोक पांडेय उपस्तिथ रहे l

निदेशक
विकास सिंह
जेनिथ क्रैस एकेडमी , औरंगाबाद